उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा विद्यालय भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., वैशाली के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश। संविदा के आधार पर भर्ती हेतु सुचना – न. वि. स. शिलांग संभाग के लिए I उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., लोहरदगा के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि. - I, गया के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।  उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., चतरा के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।  अभिभावकों से धनराशि की उगाही न करने के संबंध में I विभिन्न पदों पर नियुक्ति हेतु सूचना । मैदानी क्षेत्र के भीतर शिक्षकों के हस्तांतरण के संबंध में। आयुक्त, न. वि. स. को सीधे प्रतिवेदन नहीं देने के संबंध में। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा दिये गये निर्देश - 04.09.2016।प्राचार्य/क्लस्टर प्रभारी सहायक आयुक्त/अधिशासी अभियंता के स्तर से कार्रवाई अपेक्षित। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा विद्यालय भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा दिये गये निर्देश।एन.वी.एस. कर्मचारियों के लिए आयुक्त, न.वि.स से मिलने का समय ।रिक्त पदो की स्थिति दिनांक 25.05.2016 तक
 
जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा कक्षा - VI

जवाहर नवोदय विद्यालय में कक्षा शष्ठ में नामांकन होता है जिसे राष्ट््रीय स्तर पर परीक्षा आयेजित की जाती है जिसे केन्द्रीय माध्यमिक षिक्षा परिशद द्वारा आयोजित एवं संचालित की जाती है। इसमें खाली पड़े सीटों को कक्षा नवम् एवं एकादश में क्षेत्रीय संभागीय परीक्षा आयोजित कर या पिछले रिकार्ड का आधार पर भरी जाती है।नवोदय विद्यालय में निःषुल्क षिक्षा व्यवस्था है जहाॅं 75 प्रतिशत ग्रामीण एवं 33 प्रतिशत सीट बालिकाओं के लिए सुरक्षित है। अनु0 जाति/जन जाति के अभ्यर्थी के लिए भी 15 एवं 7.5 प्रतिशत सीट आरक्षित है।योजना के अनुसार प्रत्येक जिले में एक नवोदय विद्यालय स्थित है। .

परीक्षा प्रस्तिका 21 भाषाओं में उपलब्ध होगी जो चित्रों तथा आकृतियों के आधार पर होंगे। इसे ग्रामीण बच्चे बिना किसी कठिनाई के सामना कर सकते है। वे सभी बच्चे जो जिले के सरकारी मान्यता प्राप्त स्कूल में 09 से 13 वर्ष के बीच कक्षा पंचम में पढ़ रहे हों वे जवाहर नवोदय विद्यज्ञलय चयन परीक्षा में सम्मिजित हो सकते है।

ग्रामीण क्ष्ेात्र के बच्चों के लिए कम-से कम 75 प्रतिशत सीट सुरक्षित हैऔर बचे हुए सीट शहरी क्षे के बच्चों से भरा जाएगा।

जो छात्र शहरी क्षेत्र में स्थित विद्यालय से पढ़ा हो या कक्षा तीन से पाॅंच तक के किसी सत्र में एक या अधिक वर्ष तक पढ़ा हो उसे शहरी छात्र हीं माना जाएगा।शहरी छात्र उन्हें माना जाएगा जो 2001 के जनगणना के अनुवर्ती में चिन्हित किया गया है। बाकी सभी को ग्रामीण माना जाएगा। योग्य अभ्यर्थियों की उपलब्धता अनुसार प्रत्येक विद्यालय में अधिक से अधिक 80 विद्यार्थियों को छठ्ठी कक्षा में प्रवेश दिया जाता है । समिति को यह अधिकार होगा कि पर्याप्त भवन उपलब्ध न होने की स्थिति में संबंधित जिले में प्रवेश हेतु छात्र संख्या को कम करके 40 कर दे अथवा चयन परीक्षा अथवा प्रवेश अथवा उसका परिणाम रोक दे।

चयन प्रक्रियाः-
नवोदय विद्यालय में शष्ठ में नामांकन हेतु हर वर्ष चयन प्रक्रिया आयोजित होती है जो जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा के नाम से जानी जाती है। इस परीक्षा के विशयगत संरचना में आकृति मूलक क्षेत्रीय भाषा एवं बच्चों के बौधिक सोच के आधार पर प्रष्न पत्र का प्रारूप होगा जिसे ग्रामीण छात्र बिना किसी कठिनाई के सामना कर सकते है।चूकि नवोदय विद्यालय मे आवेदन करने वाले दूर-दराज गाॅंव के गरीब बच्चे होते है इसलिए वे निःषुल्क आवेदन पत्र जिले में स्थित नवोदय विद्यालय के प्राचार्य,षिक्षक,अखबार में विज्ञापन आदि द्वारा सूचना प्राप्त कर सकते है। परिणाम स्वरूप नवोदय विद्यालय की योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्र के बच्चे जागरूक हो रहे है।
पात्रता की शर्तेंः-
चयन परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए अभ्यर्थी को निम्नलिखित योग्यता पूरा करना होगा।
  • प्रवेश परीक्षा में भाग ले रहे अभ्यर्थी सरकारी मान्यता प्राप्त विद्यालय या सर्व षिक्षा अभियान के विद्यालयों या राष्ट्र्ीय मुक्त विद्यालय संस्था के ंबीं प्रवीणता प्रमाण पत्र पठ्यक्रम की 5वीं कक्षा का अध्ययनरत छात्र होना अनिवार्य है।कक्षा शष्ठ में नामंाकन हेतु पिछले ष्षैक्षणिक वर्ष में कक्षा पंचम उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।

  • अभ्यर्थी की उम्र उस शैक्षणिक वर्ष 01 मई को 09 से 13 वर्ष के बीच होना चाहिए। यह सीमा सभी वर्गोे (अनु0 जाति, अनु0 जन जाति सहित) पर समसान रूप से लागु होगी।

  • ग्रामीण कोटे के अधिक नामांकन का दावा करने वाले अभ्यर्थी को कक्षा तीन,चार और पाॅंच का प्रत्येक सत्र ग्रामीण क्षेत्र में अवस्थित सरकारी/सहायता प्राप्त/मान्यता प्राप्त विद्यालय से उत्तीर्ण होना अनिवार्य होगा।

  • ऐसे अभ्यर्थी जो उस शैक्षणिक वर्ष के नवम्बर तक कक्षा पाॅंच में उत्क्रमित नहीं हुआ है वे आवेदन के अर्ह/पात्र नहीं है।

  • कोई भी अभ्यर्थी किसी भी परिस्थिति में दूसरी बार चयन परीक्षा में बैठने के लिए अर्ह/पात्र नहीं होगा

बच्चा जो नामांकन के लिए चयनित हुआ हैः-

 

  • निर्धारित प्रारूप में शपथ पत्र/निवास प्रमाण पत्र एवं अन्य कागजात संबंधित विद्यालय में जहाॅं नामांकन होना है, मांगा जाएगा।

  • वह अभ्यर्थी जिसका ग्रामीण कोटा में चयन हुआ है। उसके अभिभावक शपथ पत्र देंगे कि उनका बच्चा चिन्हित ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय से पढा है और वह ग्रामीण क्षेत्र में हीं निवास कर रहे है।

  • उपरोक्त शर्ते बिना किसी लिंग जाति के भेद भाव किए बिना सभी वर्ग के अभ्यर्थी के लिए लागु होगा।