उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा विद्यालय भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., वैशाली के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश। संविदा के आधार पर भर्ती हेतु सुचना – न. वि. स. शिलांग संभाग के लिए I उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., लोहरदगा के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि. - I, गया के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।  उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., चतरा के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।  अभिभावकों से धनराशि की उगाही न करने के संबंध में I विभिन्न पदों पर नियुक्ति हेतु सूचना । मैदानी क्षेत्र के भीतर शिक्षकों के हस्तांतरण के संबंध में। आयुक्त, न. वि. स. को सीधे प्रतिवेदन नहीं देने के संबंध में। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा दिये गये निर्देश - 04.09.2016।प्राचार्य/क्लस्टर प्रभारी सहायक आयुक्त/अधिशासी अभियंता के स्तर से कार्रवाई अपेक्षित। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा विद्यालय भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा दिये गये निर्देश।एन.वी.एस. कर्मचारियों के लिए आयुक्त, न.वि.स से मिलने का समय ।रिक्त पदो की स्थिति दिनांक 25.05.2016 तक
 
शिक्षा में कला

शिक्षा में कला नवोदय विद्यालय समिति के पेस सेटिंग क्रिया-कलाप का विस्तारित कार्यक्रम है। इसके अतिरिक्त यह छात्र-छात्राओं को राष्ट्रीयता की भावना अंतर सांस्कृतिक आदान-प्रदान के द्वारा उत्पन्न होता है। यह षिक्षा के क्षेत्र में समृद्धि एवं विद्यालय के आस-पास के समुदाय के साथ एकता स्थापित करता है। साहित्य, कला एवं विज्ञान के क्षेत्र में ख्याति प्राप्त प्रतिष्ठित व्यक्तित्व को बुलाकर छात्र-छात्राओं से मिलने का अवसर प्रदान किया जाता है। छात्र-छात्राएँ परम्परागत कला के क्षेत्र में समकालीन एवं परम्परागत षिक्षकों से प्रिषिक्षण प्राप्त करते है। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय एकता समागम आयोजित किया जाता है जिसमें देष भर के षिक्षक एवं छात्र-छात्राएँ सम्मिलित होते है। षिक्षा के कला का उद्देष्य शाष्वत मूल्य को भी मजबूत करना एवं समूह क्रिया-कलाप के साथ खुषी से सीखना सम्मिलित है। इसका उद्देष्य छात्र-छात्राओं का व्यक्तित्व विकास के लिए परीक्षा परिणाम के साथ क्रिया कलाप आयोजित किया जाए।

न.वि.स. द्वारा छात्र-छात्राओं को विभिन्नप्रकार के कार्यशाला लड़कियों से सम्बन्धित ’अपूर्ण से सम्पूर्ण’ आयोजित किया गया । यह विषय-वस्तु राष्ट्रीय एकता समागम 2006 जो राष्ट्रीय बाल भवन में दिसम्बर में आयोजित हुआ था से प्रेरित था। राष्ट्रीय एकता समागम के कार्यक्रम में सेमिनार हेतु लड़कियों का अधिकार क्षेत्र सम्मिलित किया गया। यह कार्यक्रम श्रीमती संतोषय यादव एवं अनेक प्रसिद्ध सम्मानित अतिथियों जैसे डाॅ. मधुपन्त, सुश्री रजिया अब्बासी, स्वामी अग्निवेष के द्वारा उद्घाटित हुआ। श्री ए.स.सी. खुन्तिया, संयुक्त सचिव, स्कूल षिक्षा एवं साक्षरता विभाग के द्वारा परम्परागत कला एवं नाट्य कला का उद्घाटन किया गया एवं श्री सुधाकर शर्मा, सचिव, ललित कला अकादमी के द्वारा कला प्रदर्षनी का उद्घाटन किया है। कला प्रदर्षनी का विषय-वस्तु कन्या भ्रूण हत्या था।

नवोदय विज्ञान कांग्रेस 
विज्ञान एवं गणित के क्षेत्र में छात्र-छात्राओं को अवसर प्रदान करने हेतु संभागीय कार्यालय नविस द्वारा प्रत्येक वर्ष विज्ञान कांग्रेस का आयोजन एक सप्ताह के लिए किया जाता है जिसमें छात्र/छात्राओं को सुविख्यात गणितज्ञ, वैज्ञानिक से मिलने का अवसर प्राप्त होता है। विज्ञान कांग्रेस के आयोजन के दौरान विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में ख्याति प्राप्त लोगो आमंत्रित कर जवाहर नवोदय विद्यालय के नवीन वैज्ञानिक छात्र/छात्राओं को संबोधन के द्वारा प्रेरणा दी जाती है।
प्रौढ़ षिक्षा कार्यक्रम
नवोदय विद्यालय समिति ने यू.एन.एफ.पी.ए., एन.सी.ई.आर.टी. एवं मानव संसाधन विकास मंत्रालय के साथ साझा कार्यक्रम 500 जवाहर नवोदय विद्यालय में आयोजित किया गया है एवं जीवन कला षिक्षा के द्वारा एच.आई.भी, एड्स एवं मादक पदार्थो के प्रति जन चेतना फैलाया गया है। यह प्रषिक्षण नविस के अधिकारियों, प्राचार्य एवं षिक्षकों को दिया गया है। जो पठ्य सहगामी क्रियाओं के द्वारा विद्यालयों में कारगर रूप से लागू किया गया है।
जवाहर नवोदय विद्यालय में सूचना एवं संचार तकनीक
नविस के द्वारा जवाहर नवोदय विद्यालय में कम्प्यूटर से संबंधित षिक्षा पर जोर दिया जाता है। हाल के वर्षों में जवाहर नवोदय विद्यालय में साॅफ्टवेयर एवं हार्डवेयर से युक्त किया गया है। साधारणतया विद्यालय में सभी को प्रषिक्षण दिया गया है। किन्तु षिक्षकों को विषेष रूप से प्रषिक्षित किया गया है। विभिन्न चरणों में विद्यालय में 24 घन्टे भी सेट सुविधा उपलब्ध कराने की योजना है। कारगर वर्ग षिक्षा हेतु अधिकतर विद्यालयों द्वारा ईलेक्ट्राॅनिक विषय वस्तु तैयार किया गया हैं। 200 से अधिक विद्यालयों में अभी तक अपना वेबसाईट है। साधारणतया षिक्षक एवं छात्र/छात्राएँ सूचना एवं संचार तकनीक का उपयोग उत्साह के साथ पठन-पाठन में कर रहे है। आज तक 541 जवाहर नवोदय विद्यालय में कम्प्यूटर एवं अन्य उपकरण के साथ-साथ कम्प्यूटर षिक्षक उपलब्ध कराकर कम्पयूटर षिक्षण कार्यक्रम सफलता पूर्वक संचालित है। नविस में कम्प्यूटर एवं छात्रों के बीच 1ः12 का अनुपात है।
  • सभी जवाहर नवोदय विद्यालयों को इन्टरनेट की सुविधा उपलब्ध कराया गया है। 301 जवाहर नवोदय विद्यालयों में भी सेट उपलब्ध कराने की योजना है जिसमें 201 जवाहर नवोदय विद्यालयों में भी सेट इन्टरनेट उपलब्ध कराया जा चूका है एवं 24 घंटे इन्टरनेट की सुविधा उपलब्ध है।

  • मल्टीमीडिया प्रोजक्टर सभी विद्यालयों को उपलब्ध कराया गया है।

  • 33 स्मार्ट स्कूलों में कम-से-कम 40 कम्प्यूटर उपलब्ध है।

  • स्थायी भवन में संचालित जवाहर नवोदय विद्यालय को 36 कम्प्यूटर उपलब्ध कराया गया है।

  • अस्थायी भवन में संचालित जवाहर नवोदय विद्यालयों को कम से कम 11 कम्प्यूटर उपलब्ध कराया गया है।

  • लगभग सभी जवाहर नवोदय विद्यालयों ने अपना वेबसाईट तैयार कर लिया है।

  • विद्यालय की सभी षिक्षक कर्मचारियों को कक्षा कक्ष अध्यापन हेतु प्रषिक्षण दिया गया है।

  • जवाहर नवोदय विद्यालय में कारगर रूप से कम्प्यूटर षिक्षा लागू करने हेतु इन्टेल, माइक्रो साॅफ्ट, भारतीय उद्योग संघ, ओरेक्ल, अजीम प्रेमजी फाउण्डेषन, भारतीय जैन संसथान के साथ साझा कार्यक्रम तैयार किया गया है।

  • नविस ने जवाहर नवोदय विद्यालय को अधिक संख्या में सूचना एवं संचार/सूचना एवं संचार तकनीक से संबंधित प्रतियोगिता में संम्मिलित होने के लिए प्रेरित किया है।

  • सरकारी संस्थाओं/बहुराष्ट्रीय कम्पनी/राज्य संस्थाओं द्वारा आयोजित क्वीज प्रतियोगिता में जवाहर नवोदय विद्यालय संम्मिलित होता रहा है। छात्र-छात्राएँ एवं षिक्षक इन प्रतियोगिताओं में सम्मिलित होकर अनेक प्रतिष्ठित पुरस्कार हासिल किए है एवं नविस को गौरवांन्वित किया है।