उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा विद्यालय भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., वैशाली के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश। संविदा के आधार पर भर्ती हेतु सुचना – न. वि. स. शिलांग संभाग के लिए I उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., लोहरदगा के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि. - I, गया के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।  उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा ज. न. वि., चतरा के भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।  अभिभावकों से धनराशि की उगाही न करने के संबंध में I विभिन्न पदों पर नियुक्ति हेतु सूचना । मैदानी क्षेत्र के भीतर शिक्षकों के हस्तांतरण के संबंध में। आयुक्त, न. वि. स. को सीधे प्रतिवेदन नहीं देने के संबंध में। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा दिये गये निर्देश - 04.09.2016।प्राचार्य/क्लस्टर प्रभारी सहायक आयुक्त/अधिशासी अभियंता के स्तर से कार्रवाई अपेक्षित। उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा विद्यालय भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देश।उपायुक्त, न.वि.स., पटना संभाग  द्वारा दिये गये निर्देश।एन.वी.एस. कर्मचारियों के लिए आयुक्त, न.वि.स से मिलने का समय ।रिक्त पदो की स्थिति दिनांक 25.05.2016 तक
 
नवोदय विद्यालय समिति (न0 वि0 स0) का लक्ष्यः

नवोदय विद्यालय समिति को सोसाइटी पंजीकरण नियम (1860 के ग्ग्प्) के अधीन 28 फरवरी 1986 को सोसाइटी के रूप में पंजीकृत किया गया। नवोदय विद्यालय समिति का उद्देष्य, नवोदय विद्यालय समिति के नियम एवं मेमोरेन्डम आॅफ एसोसिएशन में वर्णित हैं। भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अन्तर्गत भारत सरकार द्वारा बनाए गए नवोदय की स्कीम को संचालित करती है। इसमें त्रि-स्तरीय प्रबंधन संरचना (मुख्यालय स्तर पर, क्षेत्रीय कार्यालय स्तर पर एवं विद्यालय स्तर पर) है। क्षेत्रीय स्तर पर विद्यालयों के संकुल का प्रबंधन होता है। विद्यालय स्तर पर सम्पूर्ण भारत में फैले जवाहर नवोदय विद्यालय में शिक्षा के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के सह-षैक्षणिक क्रियाकलाप का संचालन होता है। ग्रामीण क्षेत्रों के प्रतिभावान बच्चों को अच्छी गुणवत्तापूर्ण, आधुनिक शिक्षा के साथ-साथ सशक्त संस्कृति के मजबूत अवयव, जीवनमूल्य निर्धारण, समसामयिकी एवं शारीरिक शिक्षा का अवसर प्रदान करना है। नवोदय विद्यालय के छात्र वर्ग शष्ठम् में नामांकित होते हैं तथा उन्हें वर्ग द्वादश तक की शिक्षा प्रदान की जाती है। अब कक्षा नवम् तथा एकादश में भी पाष्र्व परीक्षा द्वारा प्रवेश का प्रावधान है।

नवोदय विद्यालय समिति अपना कार्य संचालन सामान्य निकाय, इसके बोर्ड आफ गवनर्स एवं बोर्ड द्वारा बनाए गए तीन स्टैन्डिग कमेटी (यथा वित्त समिति, शैक्षणिक सलाहकार समिति एवं कार्यकारी समिति) के द्वारा करती है।

मानव संसाधन विकास मंत्री, नविस के पदेन अध्यक्ष होते हैं। राज्य मंत्री, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, इसके उपाध्यक्ष होते है एवं नवोदय स्कीम एवं मेमोरैन्डम आफ एसोसियशन के नियमानुसार भारत सरकार द्वारा मानव संषाधन विकास मंत्रालय के एक पदाधिकारी अधिसूचित होते है। संयुक्त आयुक्त (प्रषा.), संयुक्त आयुक्त(प्रषा.) पदेन सचिव होते हैंेे।

समिति के मुख्य उद्देष्य निम्न हैः-
  • विद्यालय को स्थापित करना, संचालन हेतु राशि मुहैया करना, रख-रखाव करना, नियंत्रण करना और क्रिया-कलापों एंव वस्तुओं का प्रबंधन करना जो विद्यालय को उन्नत करता है और जो निम्न उद्वेष्य रखता है।

  • मुख्यतः ग्रामीण इलाके के प्रतिभावान बच्चों को अच्छी गुणवत्ता युक्त शिक्षा के साथ-साथ शसक्त संस्कृति जिसमें मूल्यों की गणना शामिल है वातावरण के प्रति जागरूकता, साहसिक क्रिया-कलाप, शारीरिक शिक्षा उनके परिवारिक सामाजिक-आर्थिक भेदभाव के बिना प्रदान करना।

  • पूरे भारत वर्ष में हिन्दी, अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा उचित स्तर पर मुहैया कराना।

  • सभी वर्ग के लोगों को मानक एवं सामान्य पाठ्यक्रम प्रदान करना ।

  • राष्ट्रीय एकता एवं सामाजिक समृद्धि को बढावा देने हेतु बच्चों को देश के एक भाग से दूसरे भाग में प्रत्येक विद्यालय से भेजने का प्रावधान।

  • शिक्षकों को प्रशिक्षण देकर अच्छी गुणवत्ता की विद्यालय शिक्षा में बढ़ोत्तरी कर सेवा प्रदान करना।

  • नवोदय विद्यालय में आवासीय व्यवस्था को स्थापित करना, विकसित करना, रख-रखाव करना एवं छात्रावासों का प्रबंध करना।

  • भारत के किसी भाग में स्थित दूसरे संस्थानों को भी मदद, सहयोग एवं आवष्यकानुसार समृद्धि करना ।

  • सोसाइटी के किसी भी लक्ष्य की पूर्ति करना।